वेश्यावृत्ति (prostitution) एक शुल्क के लिए ग्राहकों की आवश्यकताओं जैसे यौन संतुषिट के लिए शरीर को बेचना है जिससे एक महिला को आजीविका कमाने का मौका मिले। प्राचीन काल से ज्ञात वेश्यावृत्ति का मतलब है कि आप किसी महिला के साथ यौन संबंध बनाने के बाद उसका भुगतान पैसों...

Read More
Feticide-blot-on-humanity

हर तरह के जीवन का आरंभ एक छोटे सेल में होता है जो पोटोप्लाइजम से भरा रहता है। सेल इतना छोटा होता है कि वो माइक्रोस्कोप से ही देखा जा सकता है। हमारे शरीर में करीब 2600000 करोड़ सेल होते हैं।

Read More

यद्यपि भारत में प्राचीन काल से ही विधि की सर्वोच्चता रही है। सुदृढ़ गुप्तचर सेवा की सहायता से कानून को दूरस्त रखने की परम्परा भी बहुत पहले से चली आ रही है। दोषी व्यक्तियों को दण्ड का विधान भी भारतीय कानून व्यवस्था में पुलिस की छवि बर्बरता व प्रताड़ना...

Read More
13487 web

विज्ञान और प्रौद्योगिकी की कोख से ही नई भोगवादी सभ्यता का जन्म हुआ है, उसने जीवन और प्रकृति के प्रति मानव – दृष्टिकोण में एक बुनियादी परिवर्तन कर दिया है। प्रकृति के साथ व्यवहार करने का हमारा जो रिश्ता था वह बिल्कुल बदल गया है। अब प्रकृति मानव –...

Read More

इंसान जब पैदा होता है तो उसके पास केवल पेट और मुंह नहीं बल्कि उसके पास दो हाथ भी होता है। अगर उसके हाथ को सम्मानित काम मिले तो ही देश प्रगति कर सकता है वरना सारी बातें केवल बातें हैं। इसी काम की तलाश में बिहारियों और उत्तर...

Read More
women victim

युग पर युग बदले, सोच-विचार बदले, समय ने करवट ली, विकास और तरक्की आसमां छूने लगे, नदी, नाले, खेत खलियान सभी बदल गये। बस नहीं बदली तो नारी की तकदीर।

Read More

भारत वर्ष में ग्रामीण अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार कृषि को माना जाता है और कृषकों की मुख्य आय का साधन खेती है। लेकिन आत्म निर्भर कृषि प्रधान देश मात्र अब कर्जदार देश बनकर रह गया है। इन दिनों किसानों की मुसीबतें कम होने के बजाय बढ़ती जा रही हैं।...

Read More
15 agust 1947

15 अगस्त ऐसा दिन है जब हम अपने महान राष्ट्रीदय नेताओं और स्व्तंत्रता सेनानियों को अपनी श्रद्धांजलि देते हैं जिन्हों ने विदेशी नियंत्रण से भारत को आज़ाद कराने के लिए अनेक बलिदान दिए और अपने जीवन न्यौजछावर कर दिए। 15 अगस्त 1947 को भारत के निवासियों ने लाखों कुर्बानियां देकर...

Read More
poverty-in-india

भूख से उपजी भुखमरी और इन दोनों से विवश हो जब कोई व्यक्ति भिखारी बन जाता है, तो वह व्यक्ति समाज के लिए अभिशाप बन जाता है और उसे सामाजिक समस्या करार दिया जाता है। सन् 2000 में ये अनुमान लगाया गया था कि 2010 के बाद दुनियां में...

Read More
Indian-democracy

भ्रष्टाचार ने जिस प्रकार से हमारी पूरी व्यवस्था को जकड़ लिया है और यह पूरी राजनीतिक प्रणाली में ऊपर से लेकर नीचे तक जम गया है इससे उबरने का इन्तजाम यदि वर्तमान राजनीतिज्ञों की पीढ़ी नहीं करेगी तो आने वाली पीढि़या इन्हें कभी माफ नहीं करेंगी और यह इतिहास में...

Read More