मैं कॉमर्स का छात्र होने के बावजूद शेयर मार्केट का उतार – चढ़ाव कभी अपने पल्ले नहीं पड़ा। सेंसेक्स में एक उछाल से कैसे किसी कारोबारी को लाखों का फायदा हो सकता है, वहीं गिरावट से नुकसान , यह बात समझ में नहीं आती। अर्थ – व्यवस्था की यह...

Read More
media

समकालीन परिवेश में हमारे प्रतिदिन के जीवन चक्र में और लगभग सभी क्षेत्रों में मीडिया का हस्तक्षेप बहुत बढ़ गया है, इसके अनेक कारण हैं। मीडिया के विभिन्न जनसंचार माध्यमों

Read More
media 2

जनसंचार का अर्थ जनता के बीच विभिन्न माध्यमों से किया जाने वाला संचार है। जनसंचार का वर्तमान समय इसके परिपक्व समाज की मनोदशा विचार, संस्कृति आम जीवन

Read More

अब तो यह सिद्ध हो गया है कि हम वाकई पिछड़े हैं। लोग 21वीं सदी की हाईटेक सिस्टम से हर क्रियाएँ करने लगे हैं और एक हम हैं कि वही कलम-कागज, वही पुराना लकड़ी का पैड जो वर्षों से इस्तेमाल करते चले आ रहे हैं, अब भी हमारे लेखनकक्ष...

Read More
mining

हमारा देश आज पुरी तरह से खनन माफियाओं के गिरफ्त में आ चुका है।  आज चारों और खनन माफियों की भरमार है शायद ही हिन्दुस्तान का कोई कोना बचा हो जहाँ तरह-तरह के खनन माफियाओं का गुंडा राज न फैला है। हमारे देश की प्राकृतिक संपदाओं की बात करें...

Read More
bihar-naksalism

देश के लिए एक गंभीर समस्या नक्सलवाद, यह सिर्फ भटके हुए आन्दोलन के अलावा और कुछ नहीं है। यह अधैर्य की उपज है। इसकी बस्ती में मानवता की कोई बयार नहीं बहती।

Read More
Riots

भारत वर्ष की दशा इस समय बड़ी दयनीय है। देश में वक्त बेवक्त भड़कते सांप्रदायिक दंगों को देखकर ऐसा लगने लगा है, जैसे एक धर्म के अनुयायी दूसरे धर्म के अनुयायियों के जानी दुश्मन हैं। अब तो एक धर्म का होना ही दूसरे धर्म का कट्टर दुश्मन जैसा होना...

Read More
media

एक वक्त था जब पत्रकार की कलम पर लोगों को पूरा भरोसा हुआ करता था। इस देश का हर नागरिक जानता था कि कलम से लिखा गया हर शब्द सच होगा और हर नागरिक आँख बन्द करके उस पर आसानी से भरोसा भी कर लेता था।

Read More
14TH RIVER GANGES 754203f

भारत की सबसे महत्त्वपूर्ण नदी गंगा जो भारत और बांग्लादेश में मिलाकर 2, 510 किमी की दूरी तय करती हुई उत्तरांचल में हिमालय से लेकर बंगाल की खाड़ी के सुंदरवन तक विशाल भू भाग को सींचती है, देश की प्राकृतिक संपदा ही नहीं, जन जन की भावनात्मक आस्था का...

Read More
munni shila

  नहीं सोचा था कि संगीत का आज यह रूप भी देखना और सुनना पड़ेगा, इसका स्तर इस हद तक गीर सकता है, समाज में संगीत को कुछ डायरेक्टर और प्रोडूसर ने अश्लितला का जो रूप दिया है, जिसमें कभी शिला की जवानी की नुमाइश की जाती है, तो...

Read More