manali

अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटन मानचित्र पर अपनी खास पहचान बनाने वाला हिमाचल प्रदेश का छोटा शहर ’मनाली’ प्राकृतिक दृश्य का एक नायाब खजाना है, और देश व विदेश के सैलानियों के लिए आकर्षण का केन्द्र रहा है। मनाली मनुआलय से बना है।

Read More
Goa-Tourism

अगर ऐतिहासिक दृष्टि से देखा जाए तो सबसे पहले गोवा का ज़िक्र महाभारत में किया गया था। उस समय गोवा का नाम गोपराष्ट्र अर्थात् गाय चराने वाले का देश हुआ करता था।

Read More
uttarakhand

  प्रकृतिक सुन्दरता के बीच रचा उत्तराखंड अपने आप में एक अद्भुत और रहस्यों से भरा हुआ प्रदेश है। देवभूमि के नाम से प्रसिद्ध इस प्रदेश में प्रकृतिक की सुन्दरता का ऐसा नजारा देखने को मिलता है कि यहां आने वाला हर व्यक्ति इस प्रदेश की सुन्दरता का कायल...

Read More
hadimba devi manali kullu

माँ हिडिम्बा देवी पूर्व में एक देवी अप्सरा योगिनी शक्ति थी। कृष्ण भगवान की माया के कारण इन्हें विलम्ब होने पर श्रापित किया गया था कि तू राक्षसी हो जा पुनः माँ देवी ने जब स्तुति की और पूछा कि आखिर कब मुझे श्राप से मुक्त होना है। तभी...

Read More
the-Narmada-journey

तेरह सौ किलोमीटर का सफर तय करके अमरकंटक से निकलकर नर्मदा विनध्य और सतपुड़ा के बीच से होकर भडूच के पास खम्भात की खाड़ी में अरब सागर से जा मिलती है। ऐतिहासिक दृष्टि से नर्मदा के तट बहुत ही प्राचीन माने जाते हैं। पुरातत्व विभाग मानता है कि नर्मदा...

Read More
cave

सरजुगा जिले के मुख्यालय अम्बिकापुर से पचास किलोमीटर दूर विलासपुर मार्ग पर स्थित रामगढ़ पर्वत प्राकृति वन सुषमा से सपन्न रामायण एवं महाभारत कालीन स्मृतियों का ही नहीं है, बल्कि विश्व की सबसे प्राचीन रंगशाला है। विद्वानों का मत है कि महाकवि कालीदास ने इसी काव्य ’मेघदूत’ की सृजना...

Read More
valleys of jammu

जम्मू कश्मीर अपने इतिहास के साथ -साथ अपनी खुबसूरत वादियों और हर तरफ ऊंचे पहाड़ों के लिए भी जाना जाता है। यहाँ की समर केपिटल करूमीर को तो धरती के स्वर्ग का खिताब हासिल है और इस जन्नत को देखने के लिए दुनिया भर से टूरिस्ट यहाँ आते हैं।...

Read More
pinjore garden

गार्डनस् तो अपने बहुत देखे होंगे लेकिन पिंजौर गार्डन की तो बात ही कुछ अलग है। कहते हैं जो एक बार यहाँ आ गया वो समझो बस इस गार्डन का दीवाना होकर रह जाता है। चंडीगढ़-शिमला राष्ट्रीय राजमार्ग पर पंचकूला से लगभग पंद्रह किलोमीटर दूर उत्तर – पूर्व निचली...

Read More