confidence

  आत्मविश्वास किसी भी कार्य के लिए आवश्यक तत्व है । क्योंकि एक बड़ी खाई को दो छोटी छलांगों में पार नहीं किया जा सकता। आत्मविश्वास के साथ आप गगन चूम सकते हैं और आत्मविश्वास के बिना मामूली सी उपलिब्धयां भी पकड़ से परे हैं। पेड़ की शाखा पर...

Read More
true

हमारे जीवन में सच का उतना ही महत्व है, जितना सही सफलता पाने के लिए संघर्ष का है। जो व्यक्ति छोटी -छोटी बातों में सच्चाई को गंभीरता से नहीं लेता उसपर बड़ी बातों में भी विश्वास नहीं किया जा सकता। कुछ चीजें ज्यादा देर तक नहीं छुप सकती जैसे...

Read More

हमारे देश में शिक्षा के क्षेत्र का क्या महत्व है ये किसी को बताने की जरूरत नहीं है। भारत के करोड़ों बच्चे हर सुबह अपना बस्ता लेकर स्कूल जाते हैं। हर माता-पिता की तमन्ना रहती है कि उनका बच्चा पढ़-लिखकर एक काबिल इंसान बने और दुनिया में खूब नाम...

Read More
tension

कई विचारकों का मत है कि अगर हम कोई जोखिम नहीं लेते हैं, तो  वह अपने-आपमें सबसे बड़ा जोखिम हैं। यह सही है भी है कि ज्यादातर लोग जोखिम लेने से डरते हैं। इसकी कई वजह होती हैं, लेकिन जो सबसे कड़ी वजह है, वह संकल्प और विचार शक्ति...

Read More

आचार्य चाणक्य ने महाराज चंद्रगुप्त को अखंड़ भारत का सम्राट बनने में सहायता करने बाद विशाल साम्राज्य की प्रजा के लिए एक नीतिशास्त्र की रचना की थी जिसे आज ‘चाणक्य नीति’ के नाम से जाना जाता है। भले ही ‘चाणक्य नीति’ आज से 2300 साल पहले लिखी गई पर...

Read More
How To Achieve Goals

जीवन में लक्ष्य प्राप्त करने के लिए हमे कई बातो को ध्यान में रखकर चलना चलना पड़ता है। आप अपने जीवन में कोई एक ऐसी चीज करिए जो आपको लगता है की आप नहीं कर सकते हैं। अगर आपको अपने जीवन के लक्ष्य प्राप्त करने हैं तो आपको अपनी...

Read More

नई दिल्ली : सब भी आप कही किसी संस्थान में जॉब के लिए आवेदन करते हैं तो उसके लिए सबसे पहले और सबसे जरुरी जो चीज होती है वो है आपका CV और आपका Resume. क्या आप जानते हैं कि ब्रिटिश नागरिक हमेशा सीवी के साथ ही अप्लाय करते...

Read More
stress

  आज की इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में स्ट्रेस (Stress) आम बात है गई है। लोग इसे लाइइलाज बीमारी मानते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। अगर हम अपनी लाइफस्टाइल में थोड़ा सा परिवर्तन कर लें, तो इससे आसानी से बचा जा सकता है। अगर आपको स्ट्रेस (Stress) पर...

Read More
vivekananda

विवेकानंद ने एक संस्करण में लिखा है कि जब पहली -पहली बार धर्म की यात्रा पर उत्सुक हुआ, तो मेरे घर का जो रास्ता था, वह वेश्याओं के मोहल्ले से होकर गुजरता था। संन्यासी होने के कारण, त्यागी होने के कारण, मैं मील दो मील का चक्कर लगाकर उस...

Read More
finishing

फिनिशिंग स्कूल का कॉन्सेप्ट भारत के लिए भले ही नया हो, लेकिन विदेशों में इसकी शुरूआत काफी पहले ही हो चुकी है। फिनिशिंग रूकूल मूलतः स्कूल व प्रोफेशनल कॉलेज के बीच की कड़ी होते हैं।

Read More